अंतर्कलह से नाराज कांग्रेस नेता का छलका दर्द, बोले-नही करुंगा पार्टी का प्रचार

मुंबई।

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस में जमकर बिखराव देखने को मिल रहा है। बगावत के सुर तेजी से फूटने लगे है।नेता मौके की नजाकत को देखकर आए दिन पार्टी बदल रहे है। अबतक दस नेताओं ने इस्तीफा दे दिया है और अब टिकट ना मिलने से वरिष्ठ नेता संजय निरुपम भी नाराज हो गए है और पार्टी छोड़ने के भी संकेत दिए है।संजय निरुपम ने कहा कि कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी के साथ जुड़े लोग साजिश रच रहे हैं, राहुल गांधी से जुड़े लोगों को पार्टी में नजरअंदाज और अलग-थलग किया जा रहा है । अब पार्टी को उन जैसे लोगों की जरुरत नही । इससे पहले गुरुवार को पूर्व सीएम नारायण राणे के बेटे नीतेश राणे बीजेपी में शामिल हो गए थे।

शुक्रवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कांग्रेस के दिग्गज नेता संजय निरुपम ने अपनी ही पार्टी पर जमकर निशाना साधा।उन्होंने कहा कि दिल्ली में बैठे लोगों में समझ की कमी है। पार्टी ने योग्य लोगों के साथ न्याय नहीं किया है। कांग्रेस पार्टी का पूरा मॉडल ही दोषयुक्त है। कांग्रेस में अब फीडबैक सिस्टम खत्म हो गया है। वही उन्होंने पार्टी छोड़ने की धमकी देते हुए कहा कि मैं ऐसा नहीं सोचता हूं कि मुझे पार्टी छोड़ना चाहिए लेकिन अगर पार्टी के भीतर ऐसी ही गतिविधियां जारी रहीं तो मुझे नहीं लगता कि मैं पार्टी के साथ ज्यादा वक्त तक रह पाऊंगा। पार्टी को मेरी अब जरुरत नही है, मुंबई में मैने सिर्फ एक विधानसभा सीट के लिए टिकट की सिफारिश की थी, लेकिन आलाकमान द्वारा उसे भी नहीं माना, ऐसे में मैं पार्टी के लिए प्रचार नहीं करूंगा।

संजय निरुपम ने कहा कि 5 महीने से सुनियोजित तरीके से उन्हें इग्नोर किया जा रहा है, वे जमीन से जुड़े व्यक्ति हैं और जनता के लिए काम करना पसंद करते हैं लेकिन पार्टी की तरफ से इसकी कोई वेल्यू नहीं है।  कांग्रेस पार्टी में चुनाव लड़ने की कोई सोच ही नहीं है। 4 साल तक मुंबई कांग्रेस के अध्यक्ष रहा हूं और मुझे नहीं लगता कि इस समय कांग्रेस के अंदर मुंबई को समझने वाला उनसे योग्य कोई और व्यक्ति है।मैं पार्टी के लिए चुनाव कैंपेन में भी हिस्सा नहीं लूंगा।  इतने पर भी निरुपम नही रुके और उन्होंने कहा कि कांग्रेस के पूरे मॉडल में ही खामियां हैं। कांग्रेस पार्टी में योग्य लोगों के साथ न्याय नहीं किया गया। ऐसे लगता है कि जैसे पार्टी को संघर्ष करने वाले लोगों की जरूरत नहीं है। तीन-चार सीटों को छोड़ दिया जाए तो महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में बाकी सीटों पर कांग्रेस की जमानत जब्त हो जाएगी। 

"To get the latest news update download tha app"