गोवा से कर्नाटक होते हुये मप्र आ रहा 'सियासी मानसून', क्या बदलेगा मौसम ?

भोपाल| मध्य प्रदेश में कुछ दिनों की बारिश के बाद मानसून सुस्त पढ़ गया है, लेकिन सियासी मानसून ने प्रदेश की सियासत गर्म कर रखी है| नेताओं की बयानबाजियों में प्रदेश की कमलनाथ सरकार के गिरने के दावों का दौर का एक बार फिर तेज हो गया है| कर्नाटक और गोवा के सियासी संकट के बीच भोपाल में कांग्रेस द्वारा डिनर डिप्लोमेसी से एकजुटता का सन्देश देने की कोशिश की गई है | वहीं अब पूर्व मंत्री और विधायक नरोत्तम मिश्रा ने बड़ा बयान दिया है कि गोवा से उठा मानसून कर्नाटक होते हुए मप्र पहुँचने वाला है| उनके इस बयान से सियासत गरमा गई है| हालांकि उन्होंने एक व्हाट्सएप मैसेज का हवाला देकर इस पहली का जवाब मांगा है| 

दरअसल, विधानसभा में मीडिया से चर्चा करते हुए नोरत्तम मिश्रा ने कांग्रेस की डिनर पार्टी पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस सरकार में बेचैनी है, उन्हें कहना पड़ रहा है कि सरकार पांच साल चलेगी, जबकि हमने नहीं कहा कि सिर्फ पांच महीने ही चलेगी| इस दौरान नरोत्तम मिश्रा ने एक व्हाट्सएप मैसेज का हवाला देते हुए बयान देकर हलचल मचा दी है| उन्होंने कहा कि एक व्हॉट्सएप मैसेज आया है कि गोवा के समुद्री तट से उठा मानसून कर्नाटक होते हुए मध्य प्रदेश पहुँच रहा है मौसम सुहाना करने के लिए | तो क्या कर्नाटक और गोवा के बाद अब मध्य प्रदेश का मौसम बदलने वाला है, हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि वो इस मैसेज का मतलब ढून्ढ रहे हैं| नरोत्तम मिश्रा के इस बयान से हलचल मच गई है, उनके इस बयान के कई मायने निकाले जा रहे हैं| वहीं कांग्रेस सरकार के मंत्री विधायक दावा कर रहे हैं कि सरकार पूरी तरह मजबूत है और कहीं कोई समस्या नहीं है, बीजेपी के लोग सपने देख रहे हैं| 

कांग्रेस में सब ठीक नहीं 

कांग्रेस की डिनर पार्टी में नेताओं के बयान कि सबकुछ ठीक है सब साथ हैं पर पूर्व मंत्री और विधायक विश्वास सारंग ने कटाक्ष किया| उन्होंने कहा कहा जब सब कुछ ठीक नहीं होता तभी ऐसे बयान आते हैं कि सब ठीक है| गुट विशेष के नेता के यहां सबका डिनर दिखाता है मध्यप्रदेश में कुछ भी ठीक नहीं है| कर्नाटक और गोवा का असर मध्य प्रदेश में होने पर बोले हमने पहले भी कहा है हम नहीं गिराएंगे यह सरकार , सरकार दबाव में कब गिर जाए ये देखना होगा| वहीं चमगादड़ों द्वारा बिजली के तारों पर झूलने और बिजली कटने पर सारंग बोले  ऊर्जा मंत्री अपनी नाकामी छुपाने के लिए बेजुबान पक्षियों को सहारा बना रहे हैं,  क्या चमगादड़ अभी 6 महीने में ही आये हैं|  

"To get the latest news update download tha app"