मप्र में भारी बारिश के चलते 29 जिलों में रेड अलर्ट, CM कमलनाथ ने सुरक्षा के दिए कड़े निर्देश

भोपाल।

मानसून के दूसरे चरण में देश के कई राज्यों में भारी बारिश हो रही है।कई राज्यों में बाढ़ जैसे हालत बने हुए है। मौसम विभाग ने गुरुवार को भी मध्य प्रदेश समेत कई राज्यों में भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। मध्य प्रदेश में भोपाल, सीहोर समेत 29 जिलों में बारिश का रेड अलर्ट जारी किया गया है। इधर, तेज बारिश के कारण प्रदेश के  मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भी ट्वीट कर प्रशासन को सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम करने के निर्देश दिए है। 

मुख्यमंत्री कमलनाथ ने प्रदेश में भारी बारिश के चलते सभी जिलों में आपदा प्रबंधन की पुख्ता व्यवस्था और सभी एहतियातन कदम उठाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि भारी बारिश के दौरान जन-धन की कोई हानि न होने देने के सुनिश्चित इंतजाम किए जाएं।वही उन्होंने सभी जिलों से भारी बारिश से उत्पन्न स्थिति की जानकारी प्राप्त की। उन्होंने सभी जिला कलेक्टरों से कहा कि वे उन स्थानों पर विशेष नजर रखें, जहां भारी वर्षा के चलते ज्यादा खतरा संभावित है। निचली बस्तियों में पानी भराव की स्थिति में तत्काल राहत कार्य शुरू करें और राहत शिविर लगाने की पूरी तैयारी रखें।नाथ ने प्रदेश में सभी पुल-पुलिया पर भी निगरानी रखने के निर्देश दिए हैं।सभी पुल-पुलिया का निरीक्षण किया जाए जिससे दुर्घटना के पूर्व आवश्यक उपाय किए जा सकें।

इन जिलों में भारी बारिश का अलर्ट

मध्यप्रदेश में शिवपुरी, दतिया, श्योपुरकलां, सागर, दमोह, छतरपुर, रीवा, सतना, सीधी, सिंगरौली, अनूपपुर, डिंडोरी, हरदा, होशंगाबाद, अलीराजपुर, झाबुआ, बड़वानी, धार, नीमच,खंडवा, खरगोन, बुरहानपुर, देवास, रायसेन, सीहोर और विदिशा जिले शामिल में भारी बारिश होने की संभावना है। वहीं बैतूल, रायसेन, सीहोर, सागर, बालाघाट, मंडला, छिंदवाड़ा, मंदसौर और विदिशा में अति भारी बारिश की चेतावनी जारी कर दी गई है।

कई राज्यों में हालात गंभीर

मध्यप्रदेश के अलावा महाराष्ट्र, कर्नाटक, केरल, ओडिशा, तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश मे भी भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है।  इसमें भी कर्नाटक और महाराष्ट्र में हालात काफी खराब हो रही है। इन दोनों राज्यों में अब तक ढाई लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है।  दोनों राज्यों में बाढ़ राहत कार्यों के लिए 1 हजार सैन्यकर्मी तैनात हैं। अकेले पश्चिमी महाराष्ट्र में पिछले सात दिन में 16 लोगों की मौत हो गई। कर्नाटक और आंध्र प्रदेश की कई नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं।वहीं कर्नाटक में लगभग 26 हजार लोगों का अब तक रेस्क्यू किया जा चुका है।




"To get the latest news update download tha app"