कैबिनेट बैठक: माननीयों को मिला तोहफा, रिटायर्ड डॉक्टर्स की होगी संविदा नियुक्ति

भोपाल|  मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ की अध्यक्षता में कैबिनेट की महत्वपूर्ण बैठकों में कई अहम प्रस्तावों पर मुहर लगी है|  बैठक में विधायकों को लैपटॉप के प्रस्ताव को मंजूरी मिली है| सरकार द्वारा विधायकों को लैपटॉप के लिए अब पचास हजार रुपए दिए जाएंगे| अभी विधायकों को 35 हजार रुपए लैपटॉप के लिए मिलते हैं| विधानसभा के बजट सत्र में विधायकों ने इसकी मांग रखी थी| वहीं कैबिनेट ने स्वास्थ्य विभाग से रिटायर हुए विशेषज्ञ डॉक्टरों को संविदा नियुक्ति देने का फैसला किया है। प्रदेश में डॉक्टरों की कमी को देखते हुए सरकार ने यह फैसला किया है| इसके अलावा कई नियुक्तियों को कैबिनेट में मंजूरी मिली है| वहीं शराब दुकाने और अहाते खोलने का प्रस्ताव फिलहाल टल गया है| 

स्वास्थ्य मंत्री तुलसी सिलावट और जनसम्पर्क मंत्री पीसी शर्मा ने कैबिनेट बैठक में लिए गए फैसलों की जानकारी देते हुए बताया कि सरकार ने विधायकों के लिए लैपटॉप के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। इसके लिए 50 हजार रुपए तक खर्च किए जा सकेंगे।  वहीं छिंदवाड़ा में उद्यानिकी कॉलेज की स्थापना को भी मंजूरी दे दी गई है। ये कॉलेज जबलपुर कृषि विश्वविद्यालय के अधीन आएगा। इसके अलावा सीएम कमलनाथ के ओएसडी प्रवीण कक्कड़ और राजेंद्र मिगलानी आगे भी काम करते रहेंगे। इनसे जुड़े प्रस्ताव को भी कैबिनेट ने मंजूरी दी है।

डॉक्टरों की सेवाएं लेगी सरकार 

प्रदेश भर में डॉक्टरों के खाली पदों को भरने के लिए कैबिनेट बैठक में रिटायर हुए विशेषज्ञ डॉक्टरों की संविदा पर नियुक्ति करने का फैसला किया है| सरकार स्वास्थ्य विभाग से सेवानिवृत्त हुए विशेषज्ञों और पीजी चिकित्सकों को संविदा नियुक्ति देगी। यह नियुक्ति पहले एक साल और फिर दूसरे साल के लिए की जायेगी|  प्रदेश में इस श्रेणी के सैंकड़ों पद खाली हैं, जो अब संविदा पर भरे जाएंगे।   

"To get the latest news update download tha app"