कर्नाटक में कुमारस्वामी सरकार गिरी, कांग्रेस-जेडीएस के पक्ष में पड़े 99 वोट

नई दिल्ली। कर्नाटक में चल रहा सियासी संग्राम आखिर कार मंगलवार को खत्म हो गया। कर्नाटक विधानसभा में हुए फ्लोर टेस्ट में कांग्रेस-जेडीएस के पक्ष में 99 वोट पड़े हैं। जबकि, बीजेपी के पक्ष में 105 वोट पड़े। मुख्यमंत्री कुमारस्वामी ने राज्यपाल से मिलने का समय मांगा है। वह समय मिलते ही उन्हें अपना इस्तीफा सौंपेंगे। स्वामी ने कांग्रेस के साथ गठबंधन में 14 महीने तक सरकार चलाई। बताया जा रहा है अब बीजेपी सरकार बनाने की के लिए दावा पेश करेगी। 

फ्लोर टेस्ट से पहले मुख्यमंत्री कुमारस्वामी ने कहा था कि 2018 के विधानसभा के चुनाव नतीजे आने के बाद मैं राजनीति छोड़ने को तैयार था। मेरा राजनीतिक मेें आना भी अपेक्षित नहीं था। लोग चर्चा कर रहे हैं कि मैं कुर्सी से क्यों चिपका हुआ हूं। मैं खुशी से यह पद छोड़ने को तैयार हूं। मेरी सरकार बेशर्म नहीं है। मैं भाषण के बाद भागूंगा नहीं। इसके बाद वोट डाले जाएंगे और उनकी गिनती होगी।

विधानसभा अध्यक्ष ने कांग्रेस के 12 बागी विधायकों को मंगलवार सुबह 11 बजे उपस्थित रहने के लिए समन भेजा था लेकिन उन्होंने निजी कारणों का हवाला देकर बेंगलुरु आने में असमर्थता जाहिर करते हुए मुलाकात के लिए चार सप्ताह का समय मांगा था. दो निर्दलीय विधायकों- आर. शंकर और एच. नागेश के आठ जुलाई को मंत्री पद से इस्तीफा देते हुए सरकार से समर्थन लेकर बीजेपी में जाने के बाद बीजेपी के पास 107 विधायक हो गए जिनमें उसके अपने 105 विधायक हैं. कुमारस्वामी की सरकार गिरने के बाद बीजेपी खेमे में खुशी की लहर देखी गई. विधान सौध के बाहर बीजेपी कार्यकर्ता जश्न मनाते दिखे. उधर सदन में पूर्व मुख्यमंत्री और बीजेपी नेता बीएस येदियुरप्पा विक्टरी साइन दिखाते हुए नजर आए. उनके साथ बीजेपी के सभी विधायक मौजूद दिखे.

"To get the latest news update download tha app"