खतरनाक मोड़ पर है सोशल मीडिया का दुरुपयोग, सरकार तैयार करे गाइडलाइन : SC

नई दिल्ली| देश में तेजी से बढ़ रहा सोशल मीडिया का चलन अब नई समस्याएं भी खड़ी कर रहा है|  इसमें कोई संशय नहीं है सोशल मीडिया का मंच आज अभिव्यक्ति का नया और कारगर माध्यम बना है, लेकिन इस दुरूपयोग बहुत ही घातक होता जा रहा है| सुप्रीम कोर्ट ने ने सोशल मीडिया के दुरुपयोग पर चिंता जताते हुए कहा है कि देश में सोशल मीडिया का दुरुपयोग हो रहा है, जो बहुत खतरनाक है। सरकार को जल्द इस मुद्दे से निपटने के लिए कदम उठाना चाहिए। 

सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र से सोशल मीडिया के दुरुपयोग पर रोक के लिए दिशा-निर्देश जारी करने की समय सीमा बताने को कहा है। सुप्रीम कोर्ट ने पूछा है कि केंद्र सरकार बताए कि सोशल मीडिया के दुरुपयोग पर रोक के लिए दिशा-निर्देश कब तक लागू होगा। देश की शीर्ष अदालत ने फेसबुक, टि्वटर और दूसरे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को आधार से लिंक करने से जुड़ी याचिका पर सुनवाई करते हुए ये बात कही। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि सोशल मीडिया के दुरुपयोग ने खतरनाक मोड़ ले लिया है। इस पर अंकुश लगाने के लिए निश्चित समय के भीतर दिशानिर्देश बनाने की जरूरत है।

कोर्ट ने कहा कि सोशल मीडिया पर संदेश, सामग्री उपलब्ध करवाने वाले का पता लगाना एक गंभीर मुद्दा है और इसके लिए नीति की जरूरत है।जस्टिस दीपक गुप्ता और जस्टिस अनिरुद्ध बोस की सुप्रीम कोर्ट बेंच ने किसी मैसेज या ऑनलाइन पोस्ट डालने वाले का पता लगाने में कुछ सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म की असमर्थता पर गहरी चिंता व्यक्त की और कहा कि अब इसमें सरकार को दखल देना चाहिए|   

"To get the latest news update download tha app"