कर्नाटक: फ्लोर टेस्ट में गैरहाज़िर रहने वाले बसपा विधायक पार्टी से बाहर

नई दिल्ली। कर्नाटक में मंगलवार को हुए फ्लोर टेस्ट के दौरान बसपा के विधायक मौजूद नहीं रहे। जिस वजह से मुख्यमंत्री कुमारस्वामी की गठबंधन सरकार गिर गई। अपने विधायकों की गैरमौजूदगी पर बसपा प्रमुख ने मायावती ने सख्त रुख अपनाते हुए उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की है। 

बसपा प्रमुख मायावती ने कर्नाटक विधानसभा में विश्वास मत में अनुपस्थित रहने वाले अपने विधायक एन. महेश को पार्टी से तत्काल प्रभाव से निष्कासित कर दिया है। पार्टी प्रमुख मायावती ने ट्विटर पर बताया कि कुमारस्वामी सरकार के समर्थन में वोट देने के पार्टी हाईकमान के निर्देश का उल्लंघन करके विधायक ने जो अनुशासनहीनता की , उसे पार्टी ने गंभीरता से लिया है। महेश को मई 2018 में कुमारस्वामी सरकार में मंत्री बनाया गया था। पिछले वर्ष नवंबर में उन्होंने इस्तीफा दे दिया था,हालांकि इसके बावजूद वह सरकार को समर्थन दे रहे थे।

कांग्रेस और जेडीएस ने विपक्षी भाजपा पर ‘ऑपरेशन लोट्स’ के तहत पैसा और मंत्री पद देने का लालच देकर गठबंधन के विधायकों को तोड़ने का आरोप लगाया है। अध्यक्ष द्वारा समन जारी करने के बावजूद गठबंधन के बागी विधायक विश्वास प्रस्ताव के दौरान सदन में उपस्थित नहीं हुए। मुख्यमंत्री ने रात करीब साढ़े आठ बजे राजभवन जाकर राज्यपाल वजूभाई वाला को सरकार का इस्तीफा सौंप दिया। राज्यपाल ने इस्तीफा तुरंत स्वीकार कर लिया। इसके बाद भाजपा विधायक दल के नेता येदियुरप्पा ने विधायकों के साथ बैठक की। उन्होंने कहा कि वह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से बात करेंगे तथा एक दो दिन में राज्य की जनता के हित में निर्णय लेंगे। राजधानी में भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने पार्टी अध्यक्ष शाह और भाजपा के नये संगठन महामंत्री बी एल संतोष से कर्नाटक के घटनाक्रम पर विचार विमर्श किया।

"To get the latest news update download tha app"