मां की तरह डॉक्टर बनना चाहती हैं अदिति, मेरिट लिस्ट में बनाई जगह

जबलपुर| माध्यमिक शिक्षा मंडल के द्वारा घोषित किए गए 10वी और 12वीं के नतीजे में जबलपुर का रिजल्ट आशा के विपरीत रहा है। दसवीं में जहां जबलपुर मेरिट लिस्ट की सूची से गायब रहा है तो वही 12वीं कक्षा में अदिति उप्पल ने मेरिट लिस्ट में सातवां स्थान पाकर जबलपुर की लाज बचाई है। अदिति ने जीव विज्ञान विषय में 500 में से 469 अंक हासिल किए हैं। अदिति अब डॉक्टर बनने के लिए आगे की पढ़ाई को जारी रखना चाहती हैं। अदिति की इस मेहनत से उनके माता-पिता भी बेहद खुश हैं। 

जबलपुर के निजी स्कूल में अध्ययनरत अदिति उप्पल  रोजाना 7 से 8 घंटे पढ़ाई करते हुए यह मुकाम हासिल किया है।अदिति के पिता कोचिंग इंस्टीट्यूट चलाते हैं जबकि मां डॉक्टर है।आज जैसे ही माध्यमिक शिक्षा मंडल मध्यप्रदेश ने अपना रिजल्ट जारी किया और उसमें 12वीं कक्षा में अदिति उपल का सातवां स्थान आते ही पूरा परिवार खुशी से झूम उठा। अपनी सफलता का श्रेय अदिति ने अपने माता पिता को दिया है।अदिति ने कहां की उसकी इस सफलता के पीछे पिता प्रदीप उप्पल और मां विनीता सहित उसके स्कूल टीचरों का है जिन्होंने उसे पढ़ाई के लिए सही मार्गदर्शन दिया है।अदिति ने नीट की परीक्षा भी दी है वह अपनी मां की तरह डॉक्टर बनना चाहती है। जीव विज्ञान लेकर पढ़ाई कर रही अदिति उपल रोजाना 7 से 8 घंटे पढ़ाई करती है अब जबकि उसे डॉक्टर बनना है तो ऐसे में अपनी पढ़ाई में और ज्यादा ध्यान दे रही है। अदिति ने उन बच्चों को भी सलाह दी है जो कि किसी कारणवश परीक्षा में अच्छे अंक नहीं ला सके हैं अदिति ने बताया कि सिर्फ 12वीं पास करना ही लक्ष्य नहीं होता है अगर अभी अच्छे अंक नहीं आए हैं तो आगे और मेहनत कर शीर्ष मुकाम हासिल किया जा सकता है।अदिति ने माना कि उसे उम्मीद नहीं थी कि मेरिट लिस्ट का सातवां नंबर आएगा।

"To get the latest news update download tha app"