मध्य प्रदेश को सौगात, इन पांच शहरों को मिलेंगी 340 ई-बसें

भोपाल। शहरी सार्वजनिक परिवहन को स्वच्छ और प्रदूषण मुक्त बनाने के लिए सरकार ने फेम इंडिया योजना के दूसरे चरण में राज्यों में 5,595 इलेक्टिक बसों की खरीद को मंजूरी दी है| मध्य प्रदेश के खाते में 340 ई-बसें आई हैं| इसमें भोपाल, इंदौर, जबलपुर, ग्वालियर और उज्जैन शहर को चुना गया है। इसका मकसद सार्वजनिक परिवहन में स्वच्छ ईंधन वाले ट्रैफिक को बढ़ावा देना है ताकि वाहनों के धुएं से पर्यावरण को बचाया जा सके।

 विभाग ने देशभर से 10 लाख से ज्यादा की आबादी वाले शहरों, स्मार्ट सिटी, केंद्र शासित प्रदेशों की राजधानी और विशेष श्रेणी वाले राज्यों से अभिरुचि पत्र यानी ईओआई आमंत्रित किए थे। स्कीम के दूसरे चरण के तहत शहर के अंदर और एक शहर से दूसरे शहर के बीच बसों के परिवहन के लिए केंद्र सरकार ने देश के विभिन्न राज्यों के 64 शहरों के लिए 5595 इलेक्ट्रिक बसों को मंजूरी दी है। सरकार इस योजना के तहत इलेक्टिक वाहन खरीदने के लिए सब्सिडी प्रदान करती है। इलेक्टिक बसों की मंजूरी के इस दौर में बिहार को 25, हरियाणा को 50, हिमाचल प्रदेश और पश्चिम बंगाल को 100-100, जम्मू कश्मीर को 150, मध्य प्रदेश को 340, छत्तीसगढ़ को 50 और उत्तराखंड को 30 बसें खरीदने की मंजूरी मिली है। कुल 5595 बसों में से 64 शहरों के लिए 5,095 बसें खरीदी जानी हैं। इसके अतिरिक्त राज्य परिवहन निगमों को अंतरराज्यीय परिवहन के लिए 400 बसों का खरीद प्रस्ताव स्वीकृत किया गया है।

इन शहरों को मिलेंगी बसें 

ये बसें अपनी अनुबंध अवधि के दौरान लगभग 4 अरब किलोमीटर की दूरी तय करेंगी और इससे करीब 1.2 अरब लीटर ईंधन की बचत होने की उम्मीद है। इससे 2.6 मिलियन टन कार्बन डाईऑक्साइड के उत्सर्जन से बचा जा सकता है। जानकारी के अनुसार भोपाल  और इंदौर को सौ-सौ बस एवं जबलपुर-ग्वालियर को 50-50 और उज्जैन को 40 बसें मिलेंगी। 

"To get the latest news update download tha app"