देश भर में मशहूर है कैमोर का दशहरा उत्सव, इस बार बनाया गया ईको फ्रेंडली रावण

कटनी। वंदना तिवारी। 

कटनी जिले के औद्योगिक नगरी कैमोर का दशहरा लगातार 75 सालों से सुर्खियों में बना हुआ है। इस बार भी कैमोर का दशहरा ऐतिहासिक रहा। 85 फ़ुट का रावण का पुतला यहां का खास आकर्षण का केन्द्र तो रहा हीं साथ हीं रावण दहन के पहले हुई आतिशबाजी ने दर्शकों का मन मोह लिया। आपको बता दें कि कैमोर का दशहरा पूरे प्रदेश हीं नही बल्कि देश में विख्यात है क्योंकि यहां रावण का ऐसा पुतला बनाया जाता है जो सभी दिशाओम से एक जैसा दिखता है। साथ ही रावण दहन में क्षेत्रीय विधायक संजय सतेन्द्र पाठक भी इस कार्यक्रम में मौजूद रहे।

कटनी जिले के कैमोर में खड़ा यह रावण का पुतला लगभग 85 फ़ुट उंचा है। इसे बनाने में करीब डेढ महीने का समय लगता है। खास बात ये है कि इसे बनाने वाले ग्रामीण एक हीं परिवार के हैं जो पिछले 75 सालों से पीढी दर पीढी रावण का निर्मान करते आ रहे हैं। इस बार के रावण को बनाने मे पर्यावरण का भी खास ख्याल रखा गया। ए सी सी के प्लांट मैनेजर की सोच पर रावण को पूरी तरह देशी तरीके से तैयार किया। जो पूरी तरह से ईको फ्रेंडली था। इसे बनाने में किसी तरह के केमिकल का इस्तेमाल नहीं किया गया।


स्थानीय विधायक और पूर्व मंत्री संजय पाठक ने कहा कि लोगों के लिए भी यह दशहरा उत्सव खास आकर्षण का केन्द्र बना रहता है। इस रावण दहन के कार्यक्रम को देखने कटनी के आलावा आस पास के जिले के लोग भी शामिल होते हैं। कई लोग तो ऐसे भी हैं लगातार कई सालों से इस उत्सव का इंतजार करते हैं और परिवार के साथ शामिल होने आते हैं। इस बार भी लगभग एक लाख़  लोग इस कार्यक्रम के हिस्सेदार बने जो अपने आप मे बहुत बड़ी तादात है।


"To get the latest news update download tha app"