नक्सल कनेक्शन में गिरफ्तार दंपति ने कोर्ट के बाहर लगाए इंकलाब जिंदाबाद के नारे

भोपाल।

उत्तर प्रदेश एटीएस द्वारा राजधानी भोपाल से नक्सली गतिविधियों में लिप्त होने के संदेह में गिरफ्तार किये गए दम्पति को आज अदालत में पेश किया गया| जहां से ट्रांजिट रिमांड लेकर दोनों को लखनऊ ले जाया गया है। वही जब कोर्ट से दोनों बाहर निकले तो इंकलाब जिंदाबाद के नारे लगाए। हालांकि जब पत्रकारों ने उनसे पूछा कि किस मामले में उन्हें हिरासत में लिए गया है तो इस पर उन्होंने कुछ नहीं कहा| 

दरअसल, यूपी एटीएस ने सोमवार को भोपाल के शाहपुरा थाना क्षेत्र में पहचान छुपाकर रह रहे एक दंपती को गिरफ्तार किया था। दोनों पर नक्सलियों से संपर्क रखने का आरोप है। एटीएस का दावा है कि यह पहचान छुपाकर पिछले 6 महीने से इस क्षेत्र में रह रहे थे मूलत उत्तर प्रदेश जौनपुर के रहने वाले मनीष श्रीवास्तव और पत्नी वर्षा उर्फ अनीता श्रीवास्तव को नक्सल साहित्य सहित कई संदिग्ध वस्तु के साथ गिरफ्तार किया गया है| एटीएस को पिछले कई दिनों से सूचना मिल रही थी कि नक्सली विचारधारा से जुड़े लोगों द्वारा गतिविधियां की जा रही हैं| इस सूचना की पुष्टि के बाद ATS ने मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश में चार स्थानों पर कुल 8 व्यक्तियों के पूछताछ की, तलाशी ली और फोन-लैपटॉप आदि कब्जे में लिए| इसमें भोपाल के दंपति के अलावा यूपी में देवरिया में दो और कानपुर में एक जगह एटीएस ने 6 लोगों से पूछताछ की

 पेशी के बाद लगाने लगे नारे

दोनों अभियुक्तों को भोपाल में कोर्ट में पेश कर ट्रांजिट रिमांड लेकर लखनऊ ले जाया गया है। दंपति अदालत से बाहर आकर इंकलाब जिंदाबाद के नारे लगाने लगे जिसे देख कर आसपास मौजूद सभी चौंक गए। हालांकि थोड़ी देर नारे लगाने के बाद दोनों ही शांत हो गए।  जब पत्रकारों ने दोनों से पूछा कि आपको किन वजहों से पुलिस ने हिरासत में लिया गया है तो उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया। बार-बार पूछने पर भी दंपती मनीष श्रीवास्तव और वर्षा श्रीवास्तव ने सिर्फ इतना ही कहा कि उन्हें नहीं पता कि उन्हें किस कारण से गिरफ्तार किया गया। उन्होंने आरोपों की निराधार बताया।



"To get the latest news update download tha app"