एसएसपी कार्यालय में पूर्व आरक्षक ने खुद को लगा ली आग, पुलिस की कार्यप्रणाली से था परेशान

इंदौर| एसएसपी कार्यालय परिसर में उस वक्त हड़कंप मच गया जब एक युवक ने आग लगाकर आत्मदाह करने की कोशिश की। तत्काल उसे एमवाय अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां हालत गंभीर बताई जा रही है। युवक पूर्व आरक्षक है, धाेखाधड़ी के एक मामले में तुकाेगंज पुलिस पर कार्रवाई नहीं करने का आरोप लगाते हुए उसने सोमवार शाम करीब पांच बजे एसएसपी के कैबिन के बाहर खुद पर केरोसिन डालकर आग लगा ली। सिपाहियों ने मटके का पानी उस पर उड़ेलकर आग बुझाई और चादर में लपेटकर एमवाय अस्पताल ले गए।  डॉक्टरों ने उसकी हालत गंभीर बताई है। वहीं, बाद में एसएसपी ने तुकोगंज के एसआई और कांस्टेबल को सस्पेंड कर दिया। 

एसएसपी कार्यालय में काफी समय से फरियाद लगाए घूम रहे ट्रैवल संचालक योगेश वर्मा ने खुद पर केरोसिन डालकर आत्मदाह करने की कोशिश की। आग लगते ही मौके पर मौजूद लोगों ने आग बुझाई और तत्काल उसे एमवाय अस्पताल में भर्ती करवाया। डॉक्टर का कहना है कि पीड़ित 53 प्रतिशत तक झुलस गया है। अस्पताल प्रबंधन ने चोइथराम अस्पताल रैफर किया है। फिलहाल पूरे मामले में पुलिस ने प्रकरण दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। आत्मदाह करने वाला युवक पूर्व आरक्षक है। पत्नी ने कहा कि प्रकरण दर्ज होने के कारण योगेश की नौकरी चली गई थी। उसके बाद से गाड़ियां किराए पर चलाने का काम शुरू कर दिया था।

युवक की पत्नी का कहना है कि मेरे पति कुछ साल पहले पुलिस विभाग में आरक्षक थे। फिर पारिवारिक कारणों से नौकरी छोड़कर इंदौर में प्राॅपर्टी ब्रोकर बना गए। योगेश की पत्नी दिशा वर्मा ने आरोप लगाते हुए पुलिस को बताया कि आजाद नगर निवासी जफर ने पति से लाखों रुपए की धोखाधड़ी की थी। जफर प्रॉपर्टी का काम करता है। उसने पति को लालच दिया और कहा कि वह चार पहिया वाहन खरीदकर किराए पर लगा दे। वह उन्हें 30 हजार रुपए महीने देगा। पति के पास पहले से एक गाड़ी थी। तीन गाड़ियां लोन पर खरीदीं और जफर के पास लगा दी। गाड़ी लगाने के बाद जफर ने कारें हथिया लीं और रुपए देने से भी मना कर दिया।  तंगी होने और बैंक के दबाव के कारण पति घर छोड़कर चले गए थे। उनकी गुमशुदगी तुकोगंज थाने में दर्ज करवाई थी। कुछ समय बाद वे लौट आए। तब से वे रोज तुकोगंज थाना और एसएसपी ऑफिस के चक्कर लगाते रहे, लेकिन सुनवाई नहीं हुई। इस मामले की जांच तुकोगंज के एसआई अमर जिनवाल ने की थी, लेकिन उन्होंने जफर से सांठ-गांठ कर उसकी जमानत करवा दी। जफर के पास से पति की कारें भी रिकवर नहीं की। इस कारण हम आर्थिक तंगी में घिरा गए। इससे पति चिंताग्रस्त रहते हैं। रविवार रात वे नहीं सोए। सोमवार दोपहर में उन्होंने मुझे काॅल कर बेटी कृति के साथ गरबा करने का बोला था, जो कुछ दिन पहले सड़क हादसे में घायल हो गई थी। कुछ देर बाद ही मुझे एसपी ऑफिस से उनके आग लगा लेने की जानकारी मिली।

"To get the latest news update download tha app"