अवैध रेत परिवहन को लेकर आमने-सामने TI और महिला SI, आला अफसरों तक पहुंचा मामला

कटनी| वंदना तिवारी|  मध्य प्रदेश में सत्ता बदल गई लेकिन अवैध रेत उत्खनन व परिवहन का मुद्दा अब भी सियासत की सुर्खिया बना हुआ| पिछले दिनों ही प्रदेश में बेलगाम रेत के अवैध खनन के मुद्दे पर सत्ता पक्ष के भीतर ही घमासान देखने को मिला था| वहीं पुलिस प्रशासन पर भी रेत माफिया को संरक्षण देने के आरोप लगे थे| अब इसी मुद्दे से जुड़ा एक मामला कटनी से सामने आया है, जहां रेत से भरे ओवरलोड हाइवा पर कार्रवाई को लेकर थाना प्रभारी और महिला सब इंस्पेक्टर आमने सामने आ गए हैं| 

मामला बरही थाने का है, जहां महिला एसआई मीनाक्षी पन्द्रे का आरोप है कि बीती रात उन्होंने  पांच ट्रक अवैध रेत परिवहन करते हुये पकड़े तो उनको छुडवाने के लिये बरही थाने के टीआई एनके पांडे ने फ़ोन पर आदेश देते हुए कहा कि कोई भी हाइवा न रोके जाये उनको जाने दिया जाये| जब एसआई ने बताया कि सारे हाईवा में अवैध रेत परिवहन ओवर लोड होकर जा रहा है वह कैंसे छोड़ सकती है, तो टीआई पांडे ने कहा कि वह यहां का थाना प्रभारी है जैसे वह चाहे थाना चलायेगा लेकिन एसआई ने हाइवा छोड़ने से इनकार कर दिया, तो टीआई मौके पर पहुंच गये और महिला एसआई के साथ धक्कामुक्की करते हुए बदतमीजी की| महिला एसआई का आरोप है कि टीआई ने मौके पर पहुंचकर हाइवा के चालकों को भी भगा दिया| मामला इतना बढ़ा कि रात 3 बजे अकेली महिला एसआई को अपने बचाव के लिये एसपी कटनी, डीआईजी व आईजी को भी खबर करना पड़ी|

महिला एसआई द्वारा बताई गई कहानी के उलट टीआई पांडे ने अपनी सफाई में कहा है कि उन्हें सूचना मिली थी कि तीन चार हाइवा रोके गए हैं और पुलिस वाले मारपीट कर रहे हैं| जब मौके पर गए तो एसआई मीनाक्षी वहाँ थी और अकेली थीं, चार हाइवा खड़े किये हुए थे| उन्होंने बताया कि चालकों के पास डीपी थी लेकिन इसके बाद भी उनके साथ मारपीट की गई| मामले की सूचना पर मौके पर तहसीलदार और नायब तहसीलदार भी आ गए और डीपी चेक की और डीपी सही पाई गई, कुछ ट्रक जो अंडर लोड थे उन्हें छोड़ा भी गया और जो ओवरलोड ट्रक थे उनके विरुद्ध कार्यवाही करने का आदेश किया गया| रेत परिवहन का यह मामला बड़े अधिकारियों तक भी पहुँच चुका है| अब देखना होगा इस मामले में आगे क्या कार्रवाई होती है| 



"To get the latest news update download tha app"