भोपाल रेप-हत्या मामला: कानून व्यवस्था पर उठे सवाल, BJP ने CM-गृहमंत्री से मांगा इस्तीफा

भोपाल।

मध्यप्रदेश में उज्जैन के बाद राजधानी भोपाल में आठ साल की मासूम से दुष्कर्म के बाद हत्या को लेकर सियासत गर्मा गई है। एक बार फिर कानून व्यवस्था पर सवाल खड़े होने लगे है। नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव ने ट्वीट के माध्यम से एक के बाद एक ट्वीट कर बिगड़ती कानून व्यवस्था के लिए सीधे तौर से सीएम कमलनाथ और गृहमंत्री बाला बच्चन को जिम्मेदार ठहराया हैं और इस्तीफा की मांग की है वही प्रदेशाध्यक्ष राकेश सिंह ने घटना को प्रदेश सरकार की नाकामी बताया है।

गोपाल भार्गव ने अपने ट्वीटर हैंडलर पर लिखा है कि ''उज्जैन और अब राजधानी भोपाल में मासूम बच्चियों के साथ हुई घटनाओं ने प्रदेश का शर्मसार कर दिया है। अबोध बेटियों के साथ हो रही ऐसी घटनाएं हमारा शर्म से माथा झुका देती है। समाज की विकृतियां आज इस भयावह स्तर पहुँच जायेगी यह कभी सोचा भी नही था। दूसरे ट्वीट में भार्गव ने लिखा है कि कांग्रेस का राज अब जंगलराज में तब्दील हो चुका है। बीते 6 माह से प्रदेश के नाबालिग भी असुरक्षित है। पहले नाबालिकों के लगातार अपहरण और हत्याएं अब लगातार मासूम बच्चियों के साथ दुष्कर्म ओर नृशंस हत्या की ये घटनाओं के लिए प्रदेश की लचर कानून व्यवस्था जिम्मेदार है।वही अगले ट्वीट में भार्गव ने लिखा है कि नाबालिग सुरक्षित नहीं और पुलिस की लापरवाही पूर्ण कार्यशैली ने एक बेटी की जान ले ली है, जो शर्मनाक है। बिगड़ती कानून व्यवस्था के लिए सीधे तौर से सीएम कमलनाथ और गृहमंत्री जिम्मेदार हैं। इसलिए नैतिक आधार पर मुख्यमंत्री कमलनाथ और  गृहमंत्री को इस्तीफा दे देना चाहिए।

कानून व्यवस्था चौपट-राकेश सिंह

वही भाजपा प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने घटना को प्रदेश सरकार की नाकामी बताया है। राकेश सिंह ने भोपाल में 8 साल की मासूम के साथ हुई बर्बरता को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है। घटना को लेकर राकेश सिंह ने प्रदेश सरकार पर हमला बोला । राकेश सिंह ने कहा कि कमलनाथ सरकार तबादला उद्योग चलाने में जुटी हुई है। मध्यप्रदेश में कानून व्यवस्था चौपट हो गई है। अधिकारियों में काम को लेकर लगाव ही नहीं है, अधिकारी असमंजस में हैं कि पता नहीं कब तबादला हो जाए।

इधर परिजनों से मिलने पहुंची साध्वी प्रज्ञा

रविवार सुबह घटना के जानकारी लगने के बाद नवनिर्वाचित सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह पीड़ित परिवार के घर पहुंची थी। साध्वी प्रज्ञा सिंह ने घरवालों को सात्वनां दी थी। प्रज्ञा सिंह ने पीड़ता परिजनों को आरोपियों को जल्द गिरफ्तार करके सजा दिलाए जाने बात भी कही है। वहीं प्रज्ञा सिंह ने आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग स्थानीय प्रशासन से की है।साध्वी ने कहा कि प्रदेश में अपराधों की संख्या बढ़ती जा रही है. अपराधों की रोकथाम के लिए समाज में भी जागरूकता की जरूरत है। वहीं, साध्वी ने कहा कि मामले को लेकर मुख्यमंत्री से भी मुलाकात करेंगी।

पुलिस पर लापरवाही का आरोप, छह सस्पेंड

घटना के बाद से ही पुलिस पर लापरवाही के आरोप लग रहे है। परिजनों का आरोप है कि मामले में पुलिस ने अगर तत्परता दिखाई होती तो मासूम की जिंदगी बच जाती। परिजनों ने बताया कि बच्ची कल रात 8 बजे गायब हुई थी, जिसके बाद पुलिस के पास रिपोर्ट दर्ज कराई गई, लेकिन पुलिस समय से मौके पर नहीं पहुंची। वहीं, पार्षद के कहने पर रात 11 बजे पुलिस घर पहुंची लेकिन उसे खोज नही पाई। हालांकि गृहमंत्री ने इस मामलो को गंभीरता से लिया है और छह पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया है, वही आरोपियों की तलाश के लिए जगह जगह छापेमार कार्रवाई कर रही है।


"To get the latest news update download tha app"