CM के गृहक्षेत्र समेत चार जिला सहकारी बैंकों में नियुक्त किये गए प्रशासक

भोपाल| निगम मंडलों में नियुक्ति का इन्तजार कर रहे कांग्रेस नेताओं को साधने के लिए अब सहकारी बैंकों में भी एडजस्ट करने की शुरुआत हो गई है| जिला सहकारी केंद्रीय बैंकों में प्रशासक के तौर पर सरकार ने अपने भरोसेमंद लोगों की नियुक्ति शुरू कर दी है| छिंदवाड़ा, बालाघाट, बैतूल और भिंड में प्रशासक नियुक्त किया गया है। आयुक्त सहकारिता कार्यालय ने गुरुवार देर शाम इसके आदेश जारी कर दिए।  इससे पहले प्रदेश सरकार ने ग्वालियर संसदीय सीट से हाल में चुनाव लड़ने वाले अशोक सिंह को अपेक्स बैंक का प्रशासक मनोनीत किया था।

छिंदवाड़ा में विजय रामचंद्र चौधरी, बालाघाट में उदय सिंह नागपुरे, बैतूल में अरुण कुमार गोठी और भिंड में उदय प्रताप सिंह सेंगर को प्रशासक बनाया है। आयुक्त सहकारिता कार्यालय ने गुरुवार देर शाम इसके आदेश जारी कर दिए।  सहकारिता विभाग ने किसी भी विवाद से बचने के लिए सभी बैंकों से लिखित में लिया है कि जिन्हें प्रशासक नियुक्त किया जा रहा है वे पात्रता पूरी करते हैं। लम्बे समय से इसकी तैयारी चल रही थी|  मुख्यमंत्री कमलनाथ और सहकारिता मंत्री डॉ. गोविंद सिंह के बीच हुई चर्चा के बाद छिंदवाड़ा जिला सहकारी बैंक से प्रशासक बनाने का सिलसिला शुरू कर दिया गया। आने वाले समय में और भी जगह प्रशासक नियुक्त किये जाएंगे| 

छिंदवाड़ा बैंक के प्रशासक बनाए गए चौधरी कैलाश बुनकर सहकारी समिति सौंसर से बैंक प्रतिनिधि हैं। वहीं, बालाघाट बैंक के प्रशासक नागपुरे बैनगंगा बीज उत्पादक समिति, बैतूल बैंक के प्रशासक गोठी प्राथमिक उपभोक्ता सहकारी भंडार और भिंड बैंक के प्रशासक सेंगर सेवा सहकारी संस्था लकवाहा से प्रतिनिधि हैं। सेंगर बैंक के निर्वाचित संचालक भी हैं। हालांकि, बैंक का बोर्ड भंग हो चुका है। जिस भी दल की सरकार सत्ता में होती है वो अपने भरोसेमंद लोगों को ऐसे पदों पर बैठाती है| लम्बे समय से प्रदेश में बीजेपी की सरकार थी, इसलिए भाजपा समर्थित लोग मंडल, आयोग, सहकारी बैंकों में बैठे थे| अब कांग्रेस की पृष्ठभूमि वाले सहकारी नेताओं की मुख्यधारा में वापसी हुई है। 

"To get the latest news update download tha app"