शिवराज का तंज- 'कांग्रेस की हालत एक दिल के टुकड़े हजार हुए जैसी'

भोपाल।

जैसे जैसे झाबुआ उपचुनाव की तारीख नजदीक आती जा रही है वैसे वैसे राजनैतिक दलों के बीच बयानबाजी का सिलसिला तेज होता जा रहा है। एक बार फिर पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज ने कांग्रेस की गुटबाजी और अंतरकलह को लेकर तीखे वार किए है। शिवराज  ने शायराने अंदाज में तंस कसते हुए हुए कहा है कि आज कांग्रेस की हालत एक दिल के टुकड़े हजार हुए जैसी है एक टुकड़ा इधर गिरा, एक उधर.....।

आज भोपाल में करवाचौथ के मौके पर मीडिया से चर्चा के दौरान कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा और कहा कि कौन सी कांग्रेस में कौन है यह यक्ष प्रश्न है, दिल्ली में मां और बेटे की कांग्रेस अलग अलग हो गई है। मध्यप्रदेश में कमलनाथ कांग्रेस, ज्योतिराज सिंधिया कांग्रेस,  दिग्विजय सिंह कांग्रेस,  अरुण यादव, अजय सिंह , सुरेश पचौरी कांग्रेस और  झाबुआ चले जाएं तो कांतिलाल भूरिया कांग्रेस है। वही झाबुआ चुनाव से सिंधिया से दूरी पर शिवराज ने कहा कि सिंधिया घूम रहे हैं, उन्हें कोई नहीं पूछ रहा है। अब दिल का दर्द होठों पर आना स्वाभाविक है। अब उन्हें  बुलाया या नहीं  बुलाया यह  जवाब तो वही दे सकते हैं।

गौशाला के वचन को पूरा करे सरकार

वही शिवराज ने गौशाला को लेकर कहा कि कांग्रेस ने वचन पत्र में कहा था गौशाला खोलेंगे। अब दिग्विजय सिंह कई बार कमलनाथ को डराने के लिए ट्वीट  कर देते हैं।  राजनीतिक स्वार्थ साधने के लिए गौ माता का इस्तेमाल कर रहे हैं ।गंभीर होते तो अकेले में बात क्यो नही करते।राजनीतिक स्वार्थ साधने का साधन है और अब सुनवाई कम हो गई तो उनकी फोटो खींचकर सोशल मीडिया पर डालेंगे।लेकिन गाय की चिंता कोई नहीं कर रहा है ।वही ग्वालियर गाय मौत मामले को लेकर कहा कि अगर शासन-प्रशासन गाय को गौशाला में ले जाता, तो वो किसी कमरे में बंद नहीं होती और मौत का शिकार नहीं होती। वचन देकर मुकरना, फिर गाय का मर जाना, ये गौ हत्या जैसा पाप है। शासन को पहल करनी चाहिए, ताकि ऐसे गौमाता न मरें।

मैग्निफिसेंट एमपी के आयोजन पर बोले 

शिवराज ने कहा कि प्रदेश में उद्योग लाने के लिए ऐसे आयोजन होने जरूरी है। मैंने भी सफलतापूर्वक  इन्वेस्टर समिट की थी। हम इंदौर में इंफोसिस और टीसीएस लेकर आए, उस समय इंफ्रास्ट्रक्चर समेत कई कंपनियों मध्यप्रदेश में निवेश ने किया था।


"To get the latest news update download tha app"