VIDEO: सिंधिया की चिट्ठियों पर नरोत्तम का शायराना तंज

भोपाल।

इन दिनों कांग्रेस के दिग्गज नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया अपनी ही सरकार का जमकर घेराव कर रहे है।कभी कर्जमाफी तो कभी ट्रांसफर को लेकर सवालों की बौछारे हो रही है, तो कभी ग्वालियर में मेट्रो और किसानों के फसलों के सर्वे को लेकर पत्र लिखे जा रहे है। अब सिंधिया ने श्योपुर की समस्याओं से संबंधित कई महत्वपूर्ण मांगे रखी है। इस संबंध में उन्होंने मुख्यमंत्री कमलनाथ को पत्र भी लिखा है।जिसको लेकर पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने चुटकी ली है।मिश्रा ने शायराने अंदाज में कहा कि' ख़त जो लिखा मैंने इंसानियत के पते पर, डाकिया ही चल बसा शहर ढूँढ़ते ढूँढ़ते… '

आज मीडिया से चर्चा के दौरान मिश्रा नेज्योतिरादित्य सिंधिया के पत्र दिखाएं। जिसमें सिंधिया ने पत्र में कमलनाथ से श्योपुर और मुरैना में किसानों का सर्वे कार्य प्रारंभ ना होने की बात लिखी है। सिंधिया ने कमलनाथ से मांग की है कि किसानों को पिछले साल रबी की फसल का ₹100 बोनस दिया जाए ।वही मिश्रा ने इन सब पर चुटकी लेते हुए कहा कि कल महाराष्ट्र में राहुल गांधी किसानों से पूछ रहे थे कि कर्जा माफ हुआ या नहीं ,युवाओं से पूछ रहे थे रोजगार मिला या नहीं।मुझे लगता है मध्य प्रदेश का भाषण राहुल महाराष्ट्र में पढ़ गए। उन्होंने आगे कहा कि अगर ये भाषण वाकई महाराष्ट्र के लिए था तो मेरी राहुल जी से विनती है इस भाषण को मध्यप्रदेश में भी दोहराए।यहां किसानों का कर्जा माफ हुआ, बर्बाद फसलों का मुआवजा मिला।ग

मिश्रा यही नही रुके उन्होंने आगे कहा कि इस पर सितम ये है कि अपने ही सरकार को खत पर खत लिखे जा रहे है। आज सिंधिया ने चार पत्र लिखे है , इसके पहले दिग्विजय सिंह ने पत्र लिखे ।उसके पहले भी कई नेता पत्र लिख रहे है। जब कोई खता होता है तभी पत्र लिखता है।वही उन्होंने शायराने अंदाज में कहा कि 'ख़त जो लिखा मैंने इंसानियत के पते पर, डाकिया ही चल बसा शहर ढूँढ़ते ढूँढ़ते… '। मुझे पता है ये पत्र कभी मुख्यमंत्री तक नही पहुंचेंगें, इनका भी वही हर्ष होगा जो पहले लिखे पत्रों का हुआ  है।

मिश्रा ने आगे कहा कि गेहूं का अबतक किसानों को बोनस नही मिला है। कर्जा अबतक माफ नही हुआ,बारिश से बर्बाद हुई फसल का अबतक मुआवज नही मिला, सर्वे नही किया गया। ये मुद्दे पहले ही बीजेपी उठाती आई है और अब कांग्रेस के नेता पत्र लिखकर सरकार को याद दिला रहे है।वही उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि किसानों के कामों में देरी हो इसके लिए पटवारियों , तहसीलदारों और नायाब तहसीलदारों की हडताल करवाई गई।


"To get the latest news update download tha app"