आबकारी अधिकारी और कांग्रेस नेता का पैसों के लेन-देन का ऑडियो वायरल, मचा हड़कंप

भोपाल/जबलपुर।

मध्यप्रदेश के आबकारी विभाग में भ्रष्टाचार का खेल जारी है।अब भ्रष्ट अधिकारियों और सत्ता पक्ष का गठजोड़ सामने आया है। मंडला जिला आबकारी अधिकारी इंद्रेश तिवारी और मंडला जिला कांग्रेस अध्यक्ष संजय सिंह परिहार का ऑडियो वायरल हुआ है।ऑडियो में पैसों के लेनदेन और शराब के अवैध कारोबारी पार्षद को सहयोग करने की बातचीत सुनाई दे रही है।ऑडियो में कांग्रेस नेता को 15 हजार और विधायक को ₹50 हजार देने की बात कर रहे है।

ऑडियो में अवैध शराब कारोबार में लिप्त पार्षद की पैरवी कांग्रेस जिला अध्यक्ष कर रहा है । आडियो में जिला अध्यक्ष परिहार कह रहा है कि पार्षद को परेशान मत करो । कमलनाथ जी की सरकार है पार्षद ने विपक्ष में रहते हुए 15 साल मेहनत की है उसे मैं आपके पास भेजता हूँ। आबकारी अधिकारी इंद्रेश तिवारी ने भी ऑडियो में  स्थानीय सिंडिकेट कर्ता-धर्ता राजेश पटेल का नाम लिया और बैक डेट के लेटर के आधार पर कारवाई करने की बात कही।बातचीत में गजेंद्र सिंह बर्वे उर्फ गज्जू हेड क्लर्क मंडल आबकारी कार्यालय का भी जिक्र है।

जबकी सरकारी कार्यालय में बैक डेट पर कारवाई करना गम्भीर अपराध है। पिछले 17 सालों से गजेंद्र सिंह बर्वे मंडला में पदस्थ है। इन्द्रेश तिवारी हटाने के लिए कांग्रेश जिला अध्यक्ष परिहार और विधायक पहले चलाया था अभियान और प्रभारी मंत्री को ज्ञापन भी दिया था ।इंद्रेश तिवारी विवादित अधिकारी, जबलपुर में पदस्थ आबकारी सहायक आयुक्त एसएन दुबे के साथ नाम  मीडिया की सुर्खियों में आया था इन दोनों अधिकारियों एसएन दुबे और इंद्रेश तिवारी को जबलपुर में एक साथ पदस्थ किया गया था । दोनों अधिकारी जबलपुर से पहले छिंदवाड़ा में  साथ में थे। इन दोनों अधिकारियों को हटाने के लिए जबलपुर के पूर्व दो कलेक्टरों ने राज्य सरकार को पत्र भी लिखा था। वही ऑडियो वायरल होने के बाद हड़कंप मच गया है।

"To get the latest news update download tha app"