आदिवासी गोलीकांड: अपनों के ही निशाने पर सरकार, घटना स्थल पर गए वन मंत्री को घेरा

भोपाल। बुरहानुपर जिले के नेपानगर में वन अमले द्वारा आदिवासियों पर किए गए हवाई फायर को लेकर कमलनाथ सरकार संगठन के निशाने पर आ गई है। कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह, ज्योतिरादित्य सिंधिया, विधायक हिरालाल अलावा ने निंदा की है और कार्रवाई की मांग की है। सरकार ने अभी तक इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं की है। रविवार को घटना स्थल पर पहुंचे वन मंत्री उमंग सिंघार का स्थानीय आदिवासियों ने घेराव किया। उसके बाद मंत्री ने मजिस्ट्रियल जांच होने तक कार्रवाई से इंकार कर दिया है। 

आदिवासियों पर गोलीकांड की सबसे ज्यादा राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने ट्वीट पर निंदा की। इसके बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने ट्वीटर पर ही कार्रवाई की मांग की। कांग्रेस नेताओं की आपत्ति के बाद सरकार ने सफाई दी कि घटना की मजिस्ट्रियल जांच की जा रही है। खास बात यह है कि अभी तक किसी पर भी कार्रवाई नहीं की गई है। स्थानीय प्रशासनिक सूत्रों ने बताया कि वन अमले ने जान बचाने के लिए हवाई फायर किए थे। जंगल में आदिवासी बड़ी संख्या में मौजूद थे। वे आक्रोशित हो गए थे, उनके हाथों में भी हथियार थे। हालांकि अभी जांच रिपोर्ट नहीं आई है। स्थानीय पुलिस ने दोनों पक्षों की शिकायत पर केस दर्ज किया है। 


आदिवासियों का आरोप, बाहरी लोग काट रहे जंगल

घटना की वस्तुस्थिति जानने पहुंचे वन मंत्री उमंग सिंघार को भी आदिवासियों की नाराजगी का सामना करना पड़ा है। आदिवासियों ने आरोप लगाए कि बाहरी व्यक्ति जंगल काट रहे हैं और स्थानीय आदिवासियों को खदेड़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि जिस जमीन से उन्हें बाहर किया जा रहा है, वहां वे सालों से खेती कर रहे हैं। उसी जमीन पर पट्टा दिया जाए। मंत्री ने उन्हें आश्वासन दिया। जब मंत्री घटनास्थल से लौट रहे थे, तब रास्ते में सैकड़ों आदिवासियों के समूह ने उन्हें रोक लिया। इस दौरान प्रशासन के अधिकारी भी उनके साथ मौजूद थे। 

मंत्री ने टॉर्च से देखा जंगल 

दौरे पर पहुंचे मंत्री को रात में जंगल देखने के लिए टॉर्च जलाना पड़ी। आधे घंटे तक यहां अफसरों के साथ दौरा करने के बाद काफिला आगे बढ़ा तो आदिवासी सडक़ पर बैठ गए और हंगामा करने लगे। आदिवासियों ने कहा कि गोली चलाने वाले वन अफसरों पर कार्रवाई करें। यहां गहमागहमी के बाद मंत्री ने सभी को आश्वासन देकर आगे बढ़े तो जंगल के आसपास रहने वाले ग्रामीणों ने भी समस्या सुनाई कहा कि आप पहले का जंगल देखो और अभी का। जंगल का सफाया होता जा रहा है। मंत्री पूरे मामले में उचित कार्रवाई का आश्वासन दे गए।

"To get the latest news update download tha app"